Our ideal Gandhiji


हमारे आदर्श गांधीजी






कला के टीचर चाहती थी कि वह क्लास में ही गांधी जी पर निबंध लिखें कला परेशान हो गए आमतौर पर टीचर क्लास में निबंध उसी विषय पर लिखने को कहती थी जिसे भी पढ़ा चुकी होती थी पर यह गांधीजी का विचार अलग ही था एक थी लड़की तुरंत उठ खड़ी हुई और बोली लेकिन इस तरह से अचानक कैसे लिख सकती है क्या हम घर से नहीं निकला सकते कल यह सुनकर बहुत खुशी वह भी यही चाहती थी टीचर ने कहा लेकिन बच्चे एक उपाय हो सकता है लेकिन मैं आप सभी को बताना चाहती हूं कि आप जीवन में कुछ करने लायक बन जाए एक तोते की तरह बनना जरा भी ठीक नहीं है जो रटी रटाई बात तो ही करता है समाचार पत्र किताबें आपको जरूर पढ़नी चाहिए पास पड़ोस की बात जरूर सुननी चाहिए अच्छी बातों को याद रखने की क्षमता होनी चाहिए जो बात चर्चा की गई उसे तुरंत याद कर डालनी चाहिए यही एक तरीका है जिसे अपना कर कोई भी बहुत कुछ सीख सकता है सिर्फ परीक्षा की तैयारी के लिए विषय को याद रखना और बाद में भुला देना ठीक नहीं है इसलिए मैं तुम सभी को आधा घंटा देती हूं थोड़ी सी भी बात जो तुम्हें गांधी जी के बारे में बताओ लिखो अगर कोई गलती हुई तो हम उसे सुधार लेंगे इसीलिए अब लिखना शुरू करो खूब सोचा अचानक मुझे याद आया कि उसकी मम्मी ने उसे बताया था कि वह एक बार गांधी जी के जन्म स्थान को पोरबंदर  वाले साधारण से घर को दिखाने गई थी






एक बार वह व्यक्ति जो उनके साथ था ने गांधी जी से कहा तुम अंधेरे से क्यों डरते हो अगर तुम राम के नाम को याद कर रखोगे तो वह तुम्हारी रक्षा करें
                     गांधी जी ने ऐसा ही किया वह हमेशा राम नाम को याद रखने लगे और इस अंधविश्वास से उन्होंने अंधेरे के ऊपर जीत हासिल करना है उसे याद किया हुआ भी मेरे से डरती थी वह भी उस दिन के बाद से बदल गए
               मुझे याद आया कि जब उसके पापा अपने आसपास के लोगों को देखते थे तो मम्मी से कहते थे गरीबों के पास कुछ भी नहीं है तब भी वह निडर होकर जीते हैं जबकि अमीरों के पास बहुत ज्यादा है लेकिन उन्हें हमेशा भय बना रहता है
                         
                          वहां भी करते यही वजह है कि गांधीजी साधारण और उच्च विचार पसंद किया करते थे और हर समय इसकी वकालत किया करते थे यही विचार हमारे कुछ जीवन का मार्ग है लेकिन अगर हम खुद को देखे तो हम बच्चे भूखे लोगों की तरह बनना चाहते हैं गांधी जी ने कहा था कि किसी की जरूरत के हिसाब से बहुत कुछ होता है किसी के लालच के अनुसार नहीं

                         और विचार उसके पेन से फूट पड़े एक आंटी जो साबरमती आश्रम घूमने गई थी मैं उसके मम्मी पापा को राष्ट्रपिता के बड़े प्रशासन को के बारे में बताया था या एक बहुत ही सुंदर और शांतिपूर्ण स्थान है यहां पर गांधीजी की सभी लिखी हुई चीजों को दिखाया गया था उनका चरखा भी यहां रखा है इस कितनी महान आत्मा सच में एक महात्मा अगर हम में से सभी उस बात का अनुसरण करें जिसे उन्होंने कहा था तो यह हमारे लिए अच्छा होगा और देश के लिए भी अच्छा होगा आप जरा देखें कि हम अपनी धरती के साथ क्या कर रहे हैं जब तक हम अपने आप को सुधार नहीं लेते हम अपने को बर्बाद भी करते रहेंगे
                   कल आपको गांधी जी का एक और महान कार्य याद हो आया जिससे उसकी टीचर ने ही 1 साल पहले गांधी जयंती पर उसे बताया था कि अंग्रेज जो हमारे देश पर शासन कर रहे थे उन्हें किस तरह से सिर्फ दृढ संकल्प शक्ति से लड़कर गांधी जी ने देश से बाहर भगा दिया उन्होंने शांतिपूर्ण विरोध का मार्ग अपनाया और सत्याग्रह करके पूरा देश वासियों को उसमें शामिल किया
               




किसी भी देश ने आज तक विरोध का ऐसा तरीका नहीं होता
उसकी टीचर ने कहा था इस तरह का एक महान व्यक्ति कभी भी अप्रासंगिक नहीं हो सकता वह सभी लोगों के लिए हर समय एक मार्गदर्शक प्रकाश पुंज और एक आदर्श प्रतिरूप है ख़ासकर तुम्हारे जैसे युवा हो रहे बच्चों में लोग उनके जैसा आदर्श देखना चाहते हैं
                            टीचर ने यह भी कहा था कि गांधीजी का जीवन एक युवा अमेरिकन मार्टिन लूथर किंग के लिए प्रेरणा स्रोत बन गया मार्टिन लूथर किंग ने अपने देश में नस्लभेद का विरोध करने के लिए गांधी जी के सत्याग्रह के नियम को अपनाया अश्वेत बच्चे उस दौर में खेलने के लिए पार्क में नहीं जा सकते थे और तब मार्टिन लूथर किंग ने कहा था बचपन कभी किसी का इंतजार नहीं कर सकता
      कला को एक और बात याद हो पाई अभी वर्तमान में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा भी गांधी जी के विचारों से सहमत हुए और उन्हें एक महान व्यक्ति कहा
              गांधीजी ने एक बार लोगों से कहा था कि वह जिस तरह से काम करते हैं वह यह दिखाता है कि मैं सिर्फ आलोचना करना या खाली बैठना पसंद करते हैं जो ठीक नहीं है जीवन में बदलाव लाने का प्रयास करना चाहिए
            यह सभी बातें कला के चारों और ढूंढ रही थी जब घंटी बजी तो कल आएंगे तब तक अपना निबंध पूरा कर लिया था
                             बहुत पसंद हुई थी उन्होंने कला के लिखे को जोर से पढ़ कर लाश को सुनाया और बोली तो अब तुम सभी जान गए ना कि अपने आसपास के लोगों को सिर्फ सुनकर कैसे तुम सब कुछ सीख सकते हो या जो कुछ भी तुमने पढ़ा है उसे याद रखने के लिए उसके तथ्यों और महत्वपूर्ण सूचनाओं को लिखना भी एक बढ़िया तरीका है



Related Posts
Previous
« Prev Post

Fantasy Girls